आखिर क्यों महेश भट्ट के पीछे सड़क पर बिना कपड़ो के दौड़ रही थी परवीन बाबी, जानिए पूरी खबर

आखिर क्यों महेश भट्ट के पीछे सड़क पर बिना कपड़ो के दौड़ रही थी परवीन बाबी, जानिए पूरी खबर

बॉलीवुड के मशहूर फिल्म निर्माता और अपने बयानों के चलते चर्चा में रहने वाले महेश भट्ट अपना 73वां जन्मदिन मना रहे है. महेश भट्ट इंडस्ट्री के बेहतरीन फिल्ममेकर्स में से हैं. महेश भट्ट ने कई सुपरहिट फिल्मों का निर्देशन किया है. हांलाकि उनकी गिनती फिल्म इंडस्ट्री की उन हस्तियों में भी होती है, जो अपने काम के अलावा निजी जिंदगी की वजह से भी सुर्खियों में छाए रहते हैं.

महेश भट्ट और विवादों का साथ बरसों पुराना है. महेश भट्ट की जिंदगी में कई ऐसे मौके आए जब वह अलग-अलग वजहों से जबरदस्त विवादों में छाए. लेकिन आज हम बात करेंगे महेश भट्ट की जिंदगी के उस हिस्से की जब उनकी जिंदगी में हिन्दी सिनेमा की सबसे खूबसूरत अभिनेत्रियों में से एक परवीन बाबी ने कदम रखा था. शादीशुदा और एक बेटी के पिता होने के बाद भी महेश भट्ट, बोल्ड और ग्लैमरेस परवीन बाबी के इश्क में गिरफ्तार हो गए थे.

परवीन बाबी के साथ महेश भट्ट के एक्सट्रा मैरिटल अफेयर को इंडस्ट्री के सबसे स्कैंडलस अफेयर्स में गिना जाता है. इनके इश्क से जुड़े कुछ किस्से हैं जो आज भी गाहे-बगाहे लोगों को याद आ जाते हैं. ऐसे किस्सों में से एक किस्सा है वो, जब परवीन बाबी सुध-बुध खोए बिना कपड़ों के ही महेश भट्ट के पीछे भाग गई थीं.

बाद में, अपने एक इंटरव्यू में खुद महेश भट्ट ने भी उस रात का खुलासा किया था. महेश भट्ट और परवीन बाबी का अफेयर साल 1977 में शुरु हुआ था. उस वक्त परवीन बाबी इंडस्ट्री की टॉप स्टार बन चुकी थीं. जबकि महेश भट्ट फिल्ममेकर के तौर पर सफलता पाने के लिए स्ट्रग्ल कर रहे थे. महेश और परवीन का प्यार परवान चढ़ा तो दोनों लिवइन में रहने का फैसला किया. महेश अपनी पत्नी लॉरेन ब्राइट और बेटी पूजा भट्ट को छोड़कर परवीन के फ्लैट में रहने लगे.

महेश के मुताबिक मुंबई में वह बरसात की एक रात थी. जब महेश और परवीन अपने बेडरूम में थे. उसी वक्त परवीन ने उन्हें अपने और यूजी के बीच से किसी एक को चुनने के लिए कहा था. परवीन की यह शर्त महेश भट्ट ने नहीं मानी. वो फौरन बिस्तर से खड़े हुए, कपड़े पहनने और बाहर निकल गए.

वहीं, परवीन भी समझ चुकी थीं, कि महेश अब कभी लौट कर नहीं आएगें. वह रोते हुए महेश भट्ट को रोकने के लिए उनके पीछे नहीं दौड़ी लेकिन महेश नहीं रुके. परवीन अपनी सुध-बुध इस कदर खो चुकी थीं, कि वह महेश के पीछे बिना कपड़ों के ही दौड़ पड़ी थीं.

उस दर्दनाक रात को याद कर महेश का दिल आज भी कांप जाता है. एक इंटरव्यू में महेश भट्ट ने कहा था कि वह परवीन बाबी को रोकना चाहते थे. कहना चाहते थे कि इस तरह मेरे पीछे नहीं भागो. लेकिन वह ऐसा नहीं कह पाए.

आपको बता दें, कि जिस यूजी को छोड़ने की शर्त परवीन ने महेश भट्ट के सामने रखी थी वह असल में उनके दोस्त, फिलॉस्फर और गाइड यूजी कृष्णामूर्ति थे. जब परवीन का मानसिक रोग हद से ज्यादा बढ़ गया था तब यूजी ने ही महेश भट्ट को सलाह दी थी कि वह परवीन को उनके हाल पर छोड़ दें. बाद में परवीन यूजी को भी अपना दुश्मन मानने लगी थीं.

यह आर्टिकल आपको कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताइये. अगर आपके पास हमारे लिये कोई सवाल और सुझाव है तो आप हमें ईमेल के जरिये संपर्क कर सकते है.

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Air News अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Don`t copy text!