ऐसा भयानक होगा कलियुग का अंत -आएंगा महाप्रलय, एसे होगा विनाश….कल्कि भगवान लेंगे अवतार

ऐसा भयानक होगा कलियुग का अंत -आएंगा महाप्रलय, एसे होगा विनाश….कल्कि भगवान लेंगे अवतार

भगवतमा शुल्कदेवजी ने हजारों साल पहले कलियुग का जिस तरह से वर्णन किया है, उसकी सावधानी और विस्तार हमारी आंखें खोलने के लिए काफी है। आज की घटनाएं उसी विवरण के अनुसार हो रही हैं और भविष्य में भी उसी तरह से होंगी जैसे लिखा गया है।

कलियुग के अंत का वर्णन श्रीमद्भागवत पुराण और भविष्य पुराण में किया गया है। कलियुग में भगवान कल्कि का अवतार आएगा, जो पापियों का नाश करेंगे और स्वर्ण सतयुग की फिर से स्थापना करेंगे। कलियुग और कल्कि अवतारों के अंत से संबंधित अन्य पुराणों में भी इसका वर्णन किया गया है।

कलियुग का जीवन: पुराणों में कलियुग की आयु 4,32,000 वर्ष बताई गई है। अभी कलियुग का प्रथम प्रहर चल रहा है। कलियुग की शुरुआत ३१०२ ईस्वी से पहले हुई थी, जब पांच ग्रह थे; मेष राशि पर मंगल, बुध, शुक्र, बृहस्पति और शनि 0 डिग्री पर थे। इसका मतलब है कि कलियुग को ३१०२ + २०२१ = ५१२३ वर्ष बीत चुके हैं और ४२६८७७ वर्ष शेष हैं।

कलियुग के अंत में क्या होगी दुर्दशा: कलियुग के अंत में, मानव जीवन की औसत आयु 20 वर्ष होगी। महिला पांच साल की उम्र में गर्भवती हो जाएगी। लोग 16 साल में बूढ़े हो जाएंगे और 20 साल में मर जाएंगे। ब्रह्मवैवर्त पुराण कहता है कि कलियुग में एक समय ऐसा आएगा जब जीवित पशुओं के शरीर छोटे, कमजोर और रोगग्रस्त होने लगेंगे। श्रीमद्भागवत के बारहवें स्कंद में, कलियुग के धर्म के तहत, श्री शुकदेवजी परीक्षितजी से कहते हैं कि जैसे ही कलियुग का अंधकार युग आता है, धर्म, सत्य, पवित्रता, क्षमा, दया, और धीरे-धीरे गायब हो जाते हैं। कलियुग के अंत में भगवान विष्णु कल्कि में अवतरित होंगे।

आदमी क्या खाएगा? : कलियुग के अंत में दुनिया की स्थिति ऐसी होगी कि अनाज नहीं उगेगा। लोग केवल मछली और मांस खाएंगे और भेड़ और बकरियों का दूध पीएंगे। एक समय आएगा जब भूमि से अनाज का उत्पादन बंद हो जाएगा। पेड़ फल नहीं देंगे। धीरे-धीरे ये सब चीजें गायब हो जाएंगी। गायें दूध देना भी बंद कर देंगी।

कैसा होगा मनुष्य का स्वभाव: महिलाओं का स्वभाव कठोर और कटु वाणी का होगा। वह अपने पति की बात नहीं मानेगी। जिनके पास पैसा होगा उनके पास महिलाएं होंगी। मनुष्य का स्वभाव गधे के समान होगा। मनुष्य नास्तिक और चोर बन जायेंगे। सब एक दूसरे को लूट रहे होंगे। कलियुग में समाज हिंसक हो जाएगा। जो बलवान हैं, वे ही शासन करेंगे। मानवता का नाश होगा। रिश्ता खत्म हो जाएगा। एक भाई दूसरे का दुश्मन बन जाएगा। जुआ, मद्यपान, व्यभिचार और हिंसा धर्म होगा।

पुत्र पिता की ओर हाथ उठाएगा। कलियुग के अंत में पिता और भाई अपनी बहनों को काम का शिकार बनाएंगे। लोग अपनी तारीफ के लिए बड़ी-बड़ी बातें करेंगे। एक हाथ दूसरे हाथ को लूट लेगा। कलियुग में लोग शास्त्रों से दूर भागेंगे। अनैतिक साहित्य सिर्फ लोगों की पसंद होगा। बुरे शब्दों से ही निपटा जाएगा। पुरुष और महिला दोनों दोषी होंगे। महिलाएं पतिव्रत धर्म का पालन करना बंद कर देंगी और पुरुष भी ऐसा ही करेंगे।

कलियुग के अंत में आएगा महाप्रलय: पुराणों के अनुसार कलियुग के अंत में बारह सूर्य एक साथ उदय होंगे और उनके तेज से पृथ्वी पर जल सूख जाएगा। कलियुग के अंत में, केवल भयंकर तूफान और भूकंप आएंगे। धरती से साढ़े चार फीट नीचे धरती का उपजाऊ हिस्सा नष्ट हो जाएगा। महाभारत में कलियुग के अंत में आने वाली महाप्रलय का उल्लेख है, लेकिन यह किसी जल विनाश के कारण नहीं बल्कि पृथ्वी पर बढ़ती गर्मी के कारण होगा।

महाभारत के वन उत्सव में कहा गया है कि कलियुग के अंत में सूर्य की चमक इतनी बढ़ जाएगी कि सात समुद्र और नदियां सूख जाएंगी। संवर्तक नामक अग्नि पृथ्वी को रसातल में भस्म कर देगी। बारिश पूरी तरह से रुक जाएगी। सब कुछ जल जाएगा और फिर बारह साल तक लगातार बारिश होती रहेगी। जिससे पूरी पृथ्वी जलमग्न हो जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!