ओडिशा की यह महिला किसान 15 गांवों में जरूरतमंदों को मुफ्त वितरित कर रही है सब्जियां!

ओडिशा की यह महिला किसान 15 गांवों में जरूरतमंदों को मुफ्त वितरित कर रही है सब्जियां!

57 वर्षीय महिला किसान, छायारानी साहू ओडिशा के भद्रक जिले में रहती हैं। जैसा कि पूरा देश कोविड-19 महामारी के कारण लॉकडाउन में है, कई लोग गंभीर परेशानी का सामना कर रहे हैं। ऐसी परिस्थिति में, छायारानी मदद के लिए सामने आई हैं। वह अपने परिवार की मदद से आसपास के करीब 15 गांवों के निवासियों को मुफ्त सब्जियां बांट रही हैं।भद्रक जिले के बासुदेवपुर ब्लॉक के तहत आने वाले अपने पैतृक गाँव, कुरुडा के अलावा, छायारानी और उनके परिवार ने भैरबपुर, अलबगा, लुंगा, ब्राह्मणगांव, बिनायकपुर और बासुदेवपुर नगरपालिका के भी कुछ वार्ड सहित पड़ोस के गांवों में अब तक 50 क्विंटल ताजी सब्जियां बांटी हैं।

23 अप्रैल को, जब भद्रक जिले में 60 घंटे के लिए पूर्ण रूप से लॉकडाउन की घोषणा की गई थी, तब छायारानी और उनके परिवार के पास 25 क्विंटल से अधिक सब्जियां बची हुई थी और वे दूर के स्थानों की यात्रा नहीं कर सकते थे। लेकिन यह लॉकडाउन उन्हें रोक नहीं सका। उन्होंने आसपास के गाँव में सब्जियों के पैकेट वितरित किए।

छायारानी ने द बेटर इंडिया को बताया, “मैं लॉकडाउन से पहले भी ऐसा कर रही थी। जब भी लोगों को जरूरत होती है, मैं सब्जियां और दूध बांटकर उनकी मदद करती हूं। लोग सब्जी लेने के लिए घर आते थे। इसके अलावा, मैं विभिन्न यज्ञों (अनुष्ठानों) के लिए 1-2 किलो घी देती हूं और उन वरिष्ठ नागरिकों के बीच दूध देती हूं, जो मवेशी नहीं पालते हैं। ”

चार बच्चों की माँ छायारानी पिछले 20 सालों से अपने सात एकड़ खेत में सब्जियां उगा रही हैं। उनके पास 20 गाय का एक डेयरी फार्म भी है, जो उनकी आजीविका का मुख्य साधन है। उनके पति, सर्वेश्वर साहू, उनके काम में सहायता करते हैं और एक मिल्क सोसाइटी चलाते हैं।

सब्जी की खेती से यह परिवार हर साल 3 लाख रुपये से ज़्यादा कमाता है लेकिन लॉकडाउन के कारण वे 50,000 रुपये से अधिक की सब्जियां नहीं बेच सकते हैं। स्थानीय व्यापारियों द्वारा अपनी उपज कम कीमतों पर खरीदकर स्थिति का लाभ उठाने देने की बजाय, उन्होंने सब्जियां मुफ्त बांटने का फैसला किया।

कैसे करती हैं काम?

वह बताती हैं, “स्वयंसेवकों के एक समूह के साथ काम करते हुए हर दिन गाँव के आसपास जाने के लिए एक टेम्पो किराए पर लेती हूं। सब्जियां का वितरण आसानी से हो सके, इसलिए सब्जियां पैक करती हूं ( हर पैकेट में 2.5 किलोग्राम से 3 किलोग्राम सब्जियां होती हैं )। एक बार जब हम स्थान पर पहुंच जाते हैं, तो मेरे पति, बेटे ( मानस और संतोष) और बहू, मुझे टेंट लगाने में मदद करते हैं, जहां लोग सब्जी के पैकेट लेने आते हैं। स्वयंसेवकों का एक समूह हमारे साथ आता है। कभी-कभी, हम सब्जियां देने के लिए पैदल भी जाते हैं।”

अगर गाँव बड़ा है, तो वह अपने परिवार और स्वयंसेवकों की टीम के साथ वहां जाती है। लेकिन अगर यह एक छोटा सा गाँव है, तो सब्जियों को ले जाने वाले टेम्पो को भेजते हैं और कुछ दिनों के लिए इसे वहां रखते हैं। सब्जियों के पैकेट में टमाटर, कद्दू, बैंगन, भिंडी, गाजर, चुकंदर, हरी मिर्च और पालक शामिल होता है।

इसके अलावा, उसने 12 गायों से मिलने वाला करीब 30 लीटर दूध भी ग्रामीणों और लॉकडाउन पर ड्यूटी कर रहे पुलिसकर्मियों को वितरित किया है।लॉकडाउन के दौरान, उदारता और करुणा का ये काम वाकई में अमूल्य है लेकिन क्या ये लॉकडाउन उन्हें आर्थिक रूप से प्रभावित नहीं कर रहा है?

आत्मसंयम और आवाज़ में दया के साथ छायारानी कहती हैं, “ लॉकडाउन से हम सब प्रभावित हुए हैं। हम अपनी सब्जियां नहीं बेच पा रहे हैं, लेकिन इस समय मुझे दूसरों के बारे में सोचने और उनकी मदद करने की जरूरत है। मुझे इस बारे में सोचना है कि गरीब लोगों तक कैसे पहुंचा जाए और कैसे उनकी मदद की जाए।”

इस समय उनकी अपनी वित्तीय कठिनाइयों के बावजूद, उनके पति, दो बेटों और उनकी पत्नियों ने खुशी-खुशी उनके इस काम में योगदान दिया है। वह स्वीकार करती है कि जरूरतमंद लोगों को खिलाने के लिए उनके इस प्रयास में काफी जोखिम हैं।लेकिन मास्क पहनना, सामाजिक दूरियों के मानदंडों का पालन करना और लोगों की बड़ी सभाओं से बचना, जैसी सभी आवश्यक सावधानी बरतने के साथ ये जोखिम बहुत अधिक नहीं हैं।

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Air News अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Dhara Patel

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Don`t copy text!