पिता के पास नहीं थे पैसे तो ज़मीन बेच कर पढ़ाया, बेटी बानी भारत की सबसे कम उम्र की कमर्शियल पालयट

पिता के पास नहीं थे पैसे तो ज़मीन बेच कर पढ़ाया, बेटी बानी भारत की सबसे कम उम्र की कमर्शियल पालयट

हमारे देश में एक समय बेटी के पैदा होने पर दुख मनाया जाता था परंतु आज समय बदल चुका है। बेटियों को माता-पिता सम्मान के साथ पाल पोस रहे हैं। बेटियां भी बड़ी शान से न केवल अपने माता-पिता का बल्कि पूरे देश का नाम हर क्षेत्र में रोशन कर रहे हैं। ऐसी ही एक गुजरात की बेटी ने महज 19 साल की आयु में विमान की पायलट बनकर ना केवल अपने माता-पिता का सर गर्व से ऊंचा किया बल्कि पूरे देश का नाम रोशन कर दिया।

जी हां दोस्तों गुजरात की रहने वाली 19 वर्ष की मैत्री पटेल अब पायलट बन गई है। बेटी को पायलट बनाने के लिए मैत्री पटेल के पिता कांतिभाई पटेल ने अपनी जमीन तक भेज दी थी। मैत्री पटेल एक किसान परिवार से आती है और उनके पिता कांतिभाई पटेल खेती किसानी करते हैं। इसीलिए उनके पास बेटी को पायलट की ट्रेनिंग करवाने के लिए पैसे नहीं थे तो उन्होंने अपनी जमीन ही बेच दी।

आज तक में मुताबिक मैत्री पटेल ने 8 वर्ष की उम्र में ही पायलट बनने का सपना देखा था। मैत्री पटेल उसी सपने को लेकर अपनी पढ़ाई कर रही थी। मैत्रि पटेल ने 12वीं कक्षा में उत्तीर्ण होने के बाद अमेरिका जाकर पायलट की ट्रेनिंग लेने का निर्णय किया। परंतु ट्रेनिंग के लिए उन्हें काफी खर्च आने वाला था इसलिए मैत्री पटेल के पिता कांतिभाई पटेल ने कई बैंकों से लोन लेने के लिए अर्जी दाखिल की। पर किसी भी बैंक से उनको लोन नहीं मिला तो अंत में कांतिभाई पटेल ने अपनी जमीन ही बेचने का निर्णय किया और बेटी के ट्रेनिंग का खर्च उठाया।

मंत्री पटेल ने भी अपने पिता के द्वारा किए गए इतने बड़े त्याग को काफी गंभीरता से लिया और केवल 11 महीनों में ही अमेरिका से कमर्शियल विमान उड़ाने की ट्रेनिंग प्राप्त कर ली। बता दें कि विमान उड़ाने की ट्रेनिंग के लिए कुल 18 महीने का समय दिया जाता है। इन 18 महीनों में भी कई लोग ट्रेनिंग पूरी कर नहीं पाते परंतु मैत्री पटेल ने केवल 11 महीने में ही अपनी ट्रेनिंग कंप्लीट कर ली और कमर्शियल विमान उड़ाने का लाइसेंस भी प्राप्त कर लिया।

जैसे ही बेटी मैत्री पटेल अमेरिका से पायलट बनकर लौटी तो पिता कांतिभाई पटेल और मां रेखा पटेल खुशी से झूम उठे और उनका सीना गर्व से चौड़ा हो गया। मैत्री पटेल ने कहा कि वे और भी आगे बढ़ना चाहती है और आगे चलकर कैप्टन बनना चाहती है। मैत्री पटेल को अभी अमेरिका से जो लाइसेंस प्राप्त हुआ है उसके आधार पर वह भारत में कमर्शियल विमान नहीं उठा पाएंगी परंतु भारत में उन्हें अलग से लाइसेंस के लिए अप्लाई करना पड़ेगा जिसके बाद वह भारत में भी विमान उड़ा पाएंगी।

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Air News अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Don`t copy text!