पोती की शादी में जाने के लिए दादी 83 साल में पहली बार फ्लाइट में बैठीं, Video में देखें कैसा था सफर

पोती की शादी में जाने के लिए दादी 83 साल में पहली बार फ्लाइट में बैठीं, Video में देखें कैसा था सफर

जब भी कहीं दूर जाने की बात होती है तो लोग समय बचाने के लिए फ्लाइट से सफर करना पसंद करते हैं. फ्लाइट में पहली बार बैठने का एक्सपीरियंस काफी अलग होता है और लोग इस किस्से को न जाने कितनी बार लोगों को सुनाते हैं.

आपने अपनी पहली उड़ान कब भरी थी? शायद हाल फिलहाल में, कुछ महीने पहले या फिर कुछ साल पहले, लेकिन एक बुजुर्ग महिला ने अपनी पोती की शादी में शामिल होने के लिए 83 साल की उम्र में पहली बार फ्लाइट का अनुभव लिया.

जिसने भी यह वीडियो देखा वह बेहद ही इमोशनल हो गया. वीडियो को इंस्टाग्राम पर ‘द बड़ी मम्मी’ नाम के पेज ने शेयर किया है.

पोती की शादी में जाने के लिए दादी ने पहली बार ली फ्लाइट

वायरल वीडियो में बुजुर्ग महिला को एयरपोर्ट के लिए अपने घर से निकलते हुए देखा जा सकता है. वह जब बाहर निकलती हैं तो वह बाहर खड़े लोगों का हाथ हिलाकर अभिवादन करती हैं. इसके बाद वह फ्लाइट में बैठी हुई नजर आती हैं.

और उनके हाथ में फ्लाइट का टिकट लिया हुआ है. वह अपने परिवार के साथ बैठी होती हैं और बाहर का नजारा देखने को मिलता है. उनके चेहरे की स्माइल देखकर समझा जा सकता है कि वह कितनी एक्साइटेड हैं. अ

पनी पहली उड़ान भरते ही बुजुर्ग महिला मुस्कुरा रही थीं. वीडियो पर लिखा, “पीओवी: अपनी पोती की शादी कराने के लिए 83 साल की उम्र में पहली उड़ान भर रही हूं.”

दिल छू लेने वाले वीडियो ने लोगों को चौंकाया

फ्लाइट से लैंड करने के बाद जब उन्हें डेस्टिनेशन पर ले जाया जा रहा था तो वह एक गाड़ी में सुकून से लेती हुई नजर आईं. कुछ ही सेकेंड के वीडियो ने लोगों को चौंकाकर रख दिया. इस वीडियो को अब तक चार लाख लोगों ने लाइक किया, जबकि 67 लाख से ज्यादा व्यूज मिल चुके हैं.

वीडियो देखने के बाद एक यूजर ने लिखा, “उस परिवार को बहुत-बहुत आशीर्वाद और प्यार, जो एक बच्चे की तरह दादी की देखभाल कर रहा है. लोगों के लिए यह प्रेरणा है, जो अपने ग्रैंड पैरेंट्स को घर में छोड़कर घूमने के लिए चले जाते हैं. वह अभी भी यात्रा कर रही है और आपके अच्छे स्वास्थ्य की कामना करती है.”

एक अन्य यूजर ने अपनी दादी के अनुभव को साझा किया, “मेरी दादी ने भी 88 साल की उम्र में अपनी पहली उड़ान का अनुभव किया था और जब हमने पूछा कि यह कैसा रहा, तो उन्होंने कहा कि यह पानी का जहाज (जहाज) जैसा था और एयर होस्टेस की विनम्र बातचीत के लिए प्रशंसा की.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!