वीरेंद्र सहवाग ने बताया राहुल द्रविड़ की डांट ने कैसे MS धोनी को बनाया कूल फिनिशर

वीरेंद्र सहवाग ने बताया राहुल द्रविड़ की डांट ने कैसे MS धोनी को बनाया कूल फिनिशर

इंडिया टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ‘वीरु’ का मानना ​​है कि राहुल द्रविड़ की फटकार ने MS धोनी के बल्लेबाजी के दृष्टिकोण को बदल दिया। राहुल द्रविड़ (2006-07) की कप्तानी के दौरान माही एक बड़े हिटर से मैच-फिनिशर में बदल गए।

एम एस धोनी ने अप्रैल 2005 में पाकिस्तान टीम के खिलाफ 123 गेंदों में 148 रनों की पारी खेली थी। इस पारी ने उन्हें इंटरनेशनल मंच पर पहचान दिलाई। उसी साल उन्होंने श्रीलंकाई टीम के खिलाफ 183 रन बनाए। हालाँकि, कुछ वर्षों के भीतर, कैप्टन कूल माही ने अपनी आक्रामकता पर लगाम लगाई और एक कूल फिनिशर के रूप में अपनी पहचान बनाई।

वीरु ने बताया कि यह सब कैसे हुआ इसकी पूरी कहानी। इंडिया टीवी से बातचीत में उन्होंने कहा कि महेंद्र सिंह धोनी ने अपना खेल तब बदला जब उन्हें अंत तक मैदान पर रहने की जिम्मेदारी दी गई। वीरेंद्र ने कहा कि एक बल्लेबाज विकेटकीपर के लिए अपने नैसर्गिक–खेल पर लगाम लगाना आसान नहीं होता।

43 वर्षीय वीरेंद्र सहवाग ने कहा, ‘ राहुल द्रविड़ की कप्तानी में उन्हें फिनिशर की भूमिका दी गई थी। राहुल ने एक बार खराब शॉट खेलने के बाद धोनी को डांटा था। मुझे लगता है कि उस घटना ने धोनी को बदल दिया। इसलिए 2006-07 के आसपास वह बदल गया और जिम्मेदारी लेकर मैच खत्म करने लगा।

वीरु ने स्वीकार किया कि धोनी-युवराज की जोड़ी ने इंडिया के लिए लगातार 16 रनों का पीछा करने में अहम भूमिका निभाई। उन्होंने कहा, ‘धोनी और युवी ने अविश्वसनीय जोड़ी बनाई। फिर हमने रिकॉर्ड सोलह जीत का पीछा किया। वीरु ने यह भी बताया कि उन्हें भी इसी वजह से दक्षिण अफ्रीका में जवागल श्रीनाथ और सचिन तेंदुलकर ने डांटा था। इससे उनका रवैया भी बदल गया।

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Air News अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Dhara Patel

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Don`t copy text!